Posted on 4 Comments

Sad Shayri | Heartbroken Shayri | Bewafai Shayri

Sad Shayri

ताल्लूकात बढाने है तो कुछ बुरी आदते भी सीख लो !
ऐब ना हो तो लोग महफिलों में नहीं बुलाते !!

मैं हर पल झुका और लोग सज़दा समझ बैठे..
मैंने बस इन्सानियत निभाई पर लोग खुद को खुदा समझ बैठे…

बे-खयाली में कभी #उंगलीयाँ जल ही जायेंगी,
#राख गुज़रे हुए #लमहों की, कुरेदा न करो !!

फर्क़ ना पड़ना किसी भी चीज़ से,
ज़िन्दगी में बहुत बड़ा फर्क़ ले आता है!!

*क्या खूब कहा है,गुलजार साहब ने*
*थक कर बैठा हूँ…* *हार कर नहीं..!!*
*सिर्फ बाज़ी हाथ से निकली है… ज़िन्दगी नहीं !

#चिलम को पता है #अंगारों से आशिकी का अंजाम , 
दिल में #धुआं और दामन में बस #राख ही रह जाएगी !!

कुछ ही देर की #खामोशी है…फिर #शोर आएगा !
तुम्हारा तो सिर्फ #वक्त आया  है…. हमारा #दौर आएगा !!

आंसू गर निकल आये तो खुद पोछिएगा,
लोग आएंगे तो सौदा करेंगे.

नज़रअंदाजी का बड़ा शौक था उसको,
हमने भी तोहफे में उसको उसी का शौक दे दिया !

तेरी हर चाल समझते हैं, इतने भी भोले नहीं हैं !
ज़बान के कड़वे जरूर हैं, लेकिन तेरी तरह दिल के काले नहीं हैं !!

था जिनकी वफ़ा पर नाज़ हमें, हमराज़ बदलते देखे हैं !

हालात बदलते ही अंदाज बदलते देखे हैं !!

 

सिर्फ यही कहना है तुमसे

ग़लतफ़हमी में न रहना की जो लिखता हूँ तेरे लिए लिखता हूँ क्योंकि,

मेरे शब्द इतने सस्ते नहीं की तुझपे जाया करूँ !

 

Waqt se pahle hadson se lada hoon,

Main apni umr se kai saal bada hoon.

 

Wo dushman bankar humse jeetne nikle the.

Dosti kar lete, mohabbat kar lete hum yun he haar jate.

*एक नफरत है जिसको पल भर में महसूस कर लिया जाता है*
                *और*
*एक प्रेम है जिसका यकीन दिलाने के लिए सारी जिंदगी भी कम पड़ जाती है*

 

चाकू और तलवार दोनों लड़ रहे थे,
कि कौन ज़्यादा गहरा घाव देता है

लफ्ज़ पीछे बैठे, मुस्कुराने लगे….!!

*किसी ने धूल क्या झोकी आखों में,*
*कम्बख़्त पहले से बेहतर दिखने लगा।*

 

झुका लेता हूँ अपना सर हर मजहब के आगे

पता नहीं किस दुआ में तुझे मेरा होना लिखा हो

 

इस कदर कशिश है तुम्हारी इन अदाओं में,

हम अगर तुम होते तो खुद से हे इश्क़ कर लेते

 

कदर करनी है तो जीते जी करो,
मरने के बाद तो नफरत करने वाले भी रो पड़ते हैं !

 

People test your patience daily,

And then one day when you burst,

You become a rude person.

 

ज़िन्दगी का सारा खेल तो वक्त रचता है,

इंसान तो सिर्फ अपना किरदार निभाता है।


हर बात दिल पे लगाओगे तो रह रह जाओगे,

जो जैसा है, उसके साथ वैसा बनना सीखो।

 

जीवन में जो लोग साथ रहकर छल करें, धोखा दे, चुगली करें,

बातों को गलत तरीके से किसी के सामने रखें,

उनका साथ छोड़ देना बेहतर होता है।

 

मुखौटे बचपन में देखे थे, मेले में टंगे हुए,

समझ बढ़ी तो देखे लोगों पे चढ़े हुए।

 

कौन रोता है किसी और की खातिर ऐ दोस्त,

सब को अपनी हे किसी बात पे रोना आया।

 

मंजिलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग,

हर किसी से रास्ता पूछना अच्छा नहीं होता।

 

इतनी ठोकरें देने के लिए शुक्रिया ऐ-ज़िन्दगी,

चलने का न सही, संभलने का हुनर तो आ गया।

 

4 thoughts on “Sad Shayri | Heartbroken Shayri | Bewafai Shayri

  1. Excellent post however , I was wondering if you could write a litte more on this topic?

    I’d be very grateful if you could elaborate a little bit further.
    Thank you!

    1. Hi,

      Sure, I will share more shayries here.

      Thanks,

  2. Hey just wanted to give you a quick heads up and let you know a few of the pictures aren’t
    loading properly. I’m not sure why but I think its
    a linking issue. I’ve tried it in two different web browsers and both show the same
    outcome.

    My blog post – Buy CBD

    1. Hi,

      Thanks for the feedback. However, I am checking, all images are loading properly. Can you please share screenshot?

      Thanks,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *